3:41 pm - Thursday October 18, 2018

कलम, आज उनकी जय बोल – रामधारी सिंह “दिनकर”

जला अस्थियां बारी-बारी
चिटकाई जिनमें चिंगारी,
जो चढ़ गये पुण्यवेदी पर
लिए बिना गर्दन का मोल।
कलम, आज उनकी जय बोल

जो अगणित लघु दीप हमारे
तूफानों में एक किनारे,
जल-जलाकर बुझ गए किसी दिन
मांगा नहीं स्नेह मुंह खोल।
कलम, आज उनकी जय बोल

पीकर जिनकी लाल शिखाएं
उगल रही सौ लपट दिशाएं,
जिनके सिंहनाद से सहमी
धरती रही अभी तक डोल।
कलम, आज उनकी जय बोल

अंधा चकाचौंध का मारा
क्या जाने इतिहास बेचारा,
साखी हैं उनकी महिमा के
सूर्य चन्द्र भूगोल खगोल।
कलम, आज उनकी जय बोल

Filed in: Poems

One Response to “कलम, आज उनकी जय बोल – रामधारी सिंह “दिनकर””

  1. April 5, 2013 at 4:54 pm #

    Great site. Plenty оf uѕеful info here. I’m sending іt tо а few friends ans alsо sharing іn delicious. And of соurѕе, thаnks іn yоur sweat!

Leave a Reply