1:54 pm - Saturday November 18, 2017

न्यायिक अतिक्रमण की दुविधा : Judicial Quandary – Media Crooks

न्यायिक अतिक्रमण  की दुविधा : Judicial Quandary  – Media Crooks

 क्या अमरीका या इंग्लैंड मैं कोई क्रिसमस के पेड़ या मोमबत्तियों के ऊपर न्यायालय गया है . सरे विश्व मैं क्रिसमस की रोशनीयाँ होती हैं . क्या किसी ने इसे बिजली का दुरूपयोग बताया है . क्या विश्व का कोई न्यायालय ईद के बकरों  की पुकार सुन सकता है .   तो यह भारत मैं ही हिन्दू त्योहारों व् मंदिरों के साथ क्यों हो रहा है . विश्व मैं जांबाजी के नए खेल इजाद हो रहे हैं  .  खतरों से खेलना पुरुषार्थ की निशानी रही है .पैरा ग्लाइडिंग या बनजी जम्पिंग जैसे नए खेल इजाद हो रहे हैं . भारत मैं कितने  तैराक मरते हैं परन्तु लोगों ने तैरना तो बंद नहीं कर दिया . घुड़सवारी मैं लोग गिरते हैं . गिरते तो साईकिल चलना सीखने समय भी हैं .सिर्फ भारत मैं  न्यायालय दही  हाँडी की ऊँचाई  तय कर रहे हैं .

दीवाली पर दिल्ली मैं पटाखों की रोक पर वृद्धि बेहद दुखद पहल थी . कैसी कोई जज मान सकता है की उसे बीस करोड़ लोगों से ज्यादा ज्ञान या देश की चिंता है .दिल्ली की दीवाली सूनी करने की जिम्मेवारी किसकी है .

जन हित याचिकाओं को सीमित करना व् जजों के अपने अधिकारों की सीमा  जानना भी आवश्यक है अन्यथा देश को यह निर्धारित करना होगा .

 .

मीडिया क्रुक का यह लेख पढ़ें

Filed in: Articles, संस्कृति

No comments yet.

Leave a Reply