6:32 pm - Tuesday May 30, 2017

ये हैं चीन की दलाई लामा से नफरत और अरुणाचल को लेकर लालच की असली वजहें – Aajtak

ये हैं चीन की दलाई लामा से नफरत और अरुणाचल को लेकर लालच की असली वजहें

दलाई लामा की अरुणाचल यात्रा से चिढ़ा हुआ है चीन दलाई लामा की अरुणाचल यात्रा से चिढ़ा हुआ है चीन

बेगानी शादी में अब्दुल्ला दीवाना… चीन में ये कहावत भले ही प्रचलित ना हो. लेकिन दलाई लामा की अरुणाचल प्रदेश यात्रा से बौखलाया चीन इस कहावत का सटीक उदाहरण जरूर बन गया है. अब हम एक एक करके चीन के मन में दलाई लामा से नफरत और अरुणाचल प्रदेश को लेकर लालच की वजह के बारे में बताते हैं. लेकिन सबसे पहले आपको बताते हैं कि 81 साल के बुजुर्ग दलाई लामा से चीन इतना चिढ़ता क्यों है?

 
 
 

 

 

 

दरअसल चीन और दलाई लामा के बीच दुश्मनी का इतिहास ही चीन और तिब्बत के रिश्तों का इतिहास है.

1. इतिहास के पन्नों को पलटने पर पता चलता है कि 12वीं सदी तक तिब्बत एक आज़ाद देश था, जो भारत और चीन के बीच बफर स्टेट यानी विवादित जगह बना हुआ था.
2. भारत के साथ तो तिब्बत के सदियों पुराने संबंध रहे हैं. अंग्रेजों के जमाने में तिब्बत में भारतीय रेल चलती थी.
3. तिब्बत में भारतीय डाकघर और भारतीय पुलिस मौजूद थी.
4. भारतीय सेना की एक टुकड़ी भी तिब्बत की रक्षा के लिए तैनात थी.
5. तिब्बत में भारतीय मुद्रा चलती थी.
6. भूटान की तरह तिब्बत भी विदेशी और सुरक्षा के मामले में भारत पर निर्भर था.
7. भारत की आज़ादी के बाद चीन ने तिब्बत को हड़प लिया और अपना हिस्सा बना लिया
8. तिब्बत के लोगों ने चीन की इस चाल का विरोध किया तो चीन ने तिब्बत के बौद्ध मठों को तोड़ना और तिब्बत के सबसे बड़े धर्मगुरु दलाई लामा को तंग करना शुरू कर दिया.
9. वर्ष 1959 में चीन की सेना ने ल्हासा में तिब्बत के लिए जारी संघर्ष को कुचलने के लिए दलाई लामा को गिरफ्तार करने की साजिश रची. जब चीन की सेना दलाई लामा को गिरफ्तार करके बीजिंग ले जाना चाहती थी तो दलाई लामा रातों रात अपने सैकड़ों सहयोगियों के साथ भागकर भारत आ गए.
10. चीन ने भारत से दलाई लामा को लौटाने के लिए कहा लेकिन तत्कालीन प्रधानमंत्री पंडित नेहरू इस पर राजी नहीं हुए.
तब से लेकर अबतक चीन दलाई लामा को अपना दुश्मन और तिब्बत का अलगाववादी नेता घोषित करता आया है.

तिब्बत के धर्मगुरु दलाई लामा से चीन की चिढ़ के बारे में शायद ही अब आपके मन में कोई सवाल बाकी रह गया हो. लेकिन अब अगर आप ये सोच रहे हैं कि चीन को दलाई लामा के अरुणाचल प्रदेश जाने पर ही इतना ऐतराज क्यों है तो इस सवाल का जवाब भी चीन की दादागीरी वाली चाल में छिपा है.

दरअसल बात ये है कि चीन अरुणाचल प्रदेश की 90 हजार वर्ग किलोमीटर जमीन पर अपना दावा करता है. मुख्य तौर पर अरुणाचल प्रदेश के तवांग को दक्षिण तिब्बत का हिस्सा मानता है. चीन कहता है कि 15वीं शताब्दी के दलाई लामा का जन्म तवांग में हुआ था, इसलिए तवांग तिब्बत का हिस्सा है.

लेकिन सच ये है कि 1914 में आजाद तिब्बत के प्रतिनिधियों ने शिमला में हुई बैठक में तवांग के इलाके को भारत को सौंप दिया था. चीन ने 1959 में तिब्बत पर कब्जा जमाने और दलाई लामा के भारत भागकर आने तक इस मुद्दे पर कोई ऐतराज नहीं जताया था. लेकिन 1962 में भारत-चीन युद्ध के बाद चीन ने तवांग सहित पूरे अरुणाचल प्रदेश पर कब्जा कर लिया था. हालांकि बाद में वो अरुणाचल प्रदेश में भारत-चीन बॉर्डर लाइन, जिसे मैकमोहन रेखा कहते हैं. उससे पीछे लौट गया था. तब से अबतक इस विवाद को सुलझाने के लिए भारत और चीन के बीच अब तक 15 बार बातचीत भी हो चुकी है. लेकिन ये बेनतीजा ही साबित हुई हैं.

Filed in: Articles

No comments yet.

Leave a Reply