3:42 pm - Thursday October 18, 2018

शोरा जो पहचानिए

शोरा जो पहचानिए,जो लड़े दीन के हेत,
पुर्जा-पुर्जा कट मरे,कभी ना छाडे खेत|
जो धो प्रेम खेलन का चाव,
सिर धर तली गली मोरी आओ|

Filed in: Poems

No comments yet.

Leave a Reply