11:47 am - Wednesday December 19, 2018

हो गई है पीर पर्वत – दुष्यंत कुमार

हो गई है पीर पर्वत-सी पिघलनी चाहिए
इस हिमालय से कोई गंगा निकलनी चाहिए

आज यह दीवार, परदों की तरह हिलने लगी
शर्त थी लेकिन कि ये बुनियाद हिलनी चाहिए

हर सड़क पर, हर गली में, हर नगर, हर गाँव में
हाथ लहराते हुए हर लाश चलनी चाहिए

सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं
मेरी कोशिश है कि ये सूरत बदलनी चाहिए

मेरे सीने में नहीं तो तेरे सीने में सही
हो कहीं भी आग, लेकिन आग जलनी चाहिए

Filed in: Poems

3 Responses to “हो गई है पीर पर्वत – दुष्यंत कुमार”

  1. April 4, 2013 at 7:01 am #

    A few years ago I’d have to pay someone for this ionfrmtaion.

  2. April 5, 2013 at 3:05 pm #

    Woot, I will craetilny put this to good use!

  3. April 5, 2013 at 6:59 pm #

    Wonderful web site. Lots of helpful info here. I am sending it to somе buddies ans alsо sharing іn delicious. And cеrtaіnlу, thаnkѕ for уour effort!

Leave a Reply