6:20 am - Wednesday December 11, 2019

सरकारी बाबुओं का एक और प्रहार : ISRO के वैज्ञानिकों का वेतन में ८ से दस हज़ार रूपये की कटौती की गयी

सरकारी बाबुओं का एक और प्रहार : ISRO  के वैज्ञानिकों का वेतन में ८ से दस हज़ार रूपये की कमी की गयी : चंद्रयान के सफल प्रक्षेपण का इनाम

जब सारा देश चंद्रयान की सफलता की कामना कर रहा है और इसरो कि तारीफ कर रहा है वहां सेना व् वैज्ञानिकों से जलने व् सदा से सताने वाला  वित्त विभाग उनके वेतन मैं कटौती कर रहा है .बाबुओं की सरकारी तंत्र पर हावी हो कर देश को बर्बाद करने के कितने और उदाहरण चाहिए ?क्यों देश को इन दम्भी बाबुओं से मुक्त कर नहीं सकते. इसरो के वैज्ञानिकों को बहुत सालों से सर्वोच्च न्यायालय के आदेश से दो अतिरिक्त इन्क्रीमेंट मिलते थे जो अपने अलावा सबसे जलने वाले अब बाबु हटा रहे हैं . वैज्ञानिकों के पास चपरासियों की फौज नहीं होती है . वह वेतन पर ही जिन्दाराहते हैं .दो अतिरिक्त इन्क्रीमेंट देश की सर्वोच्च वैज्ञानिक संस्था के लिए क्या महत्व रखते हैं. पर बाबु तो सबको अपनी ताकत दिखाए बिना नहीं मानते.सेना को OROP पर एक दम रुला दिया .भला हो प्रधानमंत्री का जिन्होंने उन पर थोड़ी सी नकेल तो कसी और र्सेना को मिले वाला वेतन मान दिलवा दिया फिर हम पूछते हैं की हमारी प्रतिभाएं पलायन क्यों कर जातीं हैं ?
PM must stop it like he intervenned in OROP to stop Babus vindictiveness .ISRO is going to be the flag bearer of national pride . It is giving us membership of this exclusive club of super powers . We cannot let petty jealous Babus destroy India’s premier organisation .
नीचे दिया विडियो लिंक पर क्लीक कर देखें

Filed in: Articles

3 Responses to “सरकारी बाबुओं का एक और प्रहार : ISRO के वैज्ञानिकों का वेतन में ८ से दस हज़ार रूपये की कटौती की गयी”

  1. Venkateswaran Anand
    July 26, 2019 at 11:16 am #

    This is a sure fire recipe for ISRO’s demise.
    Last year I had visited Sriharikota on an invitation from
    one of the scientists.
    Discussions with the scientists revealed that ISRO’s success is due to the following:
    1.There are no bureaucrats calling the shots.
    2.There is no interference from Audit or Vigilance.
    3.Every employee is involved in the decision making, in which even newly recruited scientists are consulted.Retired employees are treated like mentors.

    I call upon the PM to intercede immediately.

  2. July 26, 2019 at 8:14 pm #

    Scientists are not Babus, for your kind information. Do not insult them by calling them Babus even if you are loaded with anti-Modi poison.

    Govt. have already explained, those were some very special allowances gifted by Nehru-Gandhi-Vadra Dynasty that were withdrawn.
    I am surprised why nobody went to court to challenge that.

  3. July 27, 2019 at 2:37 pm #

    Scientists of ISRO are victims of finance ministry mandarins .See video first . Babus of finance ministry had made retired soldiers go on dharna to get OROP .They were lucky that PM personally intervened because it was an election promise .Others are not so lucky . Recently seven economists and allied officers chose to take retirement rather than agree to Babus dictats .

    Why are Babus not being checked from spreadding anarchy amongst other officers and services like armed forces ?

Leave a Reply