12:58 am - Wednesday November 22, 2017

Archive: Literature Subscribe to Literature

yudhishtir with dog

हिमालय : दिनकर की कविता :’ मत रोक युधिष्टिर को न आज : लौटा दे अर्जुन भीम वीर

हिमालय मेरे नगपति! मेरे विशाल! साकार, दिव्य, गौरव विराट्, पौरूष के पुन्जीभूत ज्वाल! मेरी जननी के...
क्षमा शोभती उस भुजंग

क्षमा शोभती उस भुजंग को जिसके पास गरल हो – राम धारी सिंह दिनकर

शक्ति और क्षमा / रामधारी सिंह “दिनकर”   »  » क्षमा, दया, तप, त्याग, मनोबल सबका लिया सहारा पर...
geeta updesh

भारत के इस महाभारत में कृष्ण तुम्हें आना ही होगा – जन्माष्टमी पर प्रासंगिक कविता

Bharat ke is mahabharat mein taken from e mail of Sh O.F.H.Jung krashna tumhe aana hi hoga phir se is dharti par yudh ka shankh bajana hi hoga shudharshan chakra haath mei le bhrasht netao ko narak to pahuchana hi hoga krashna tumhe aana...
bharat nirmaan

खामोश ! हो रहा है भारत निर्माण : सुन्दर व्यंग्य की कविता

एडियाँ रगड़ते भूखे बच्चे, खुले में सड़ता धान.. कोई पूछे कह देना.. हो रहा भारत निर्माण..! शीश गंवाते...
Fall_of_Nahusha from Heaven

नहुष का पतन – मैथिलि शरण गुप्त की कविता

नहुष का पतन मत्त-सा नहुष चला बैठ ऋषियान में व्याकुल से देव चले साथ में,विमान में पिछड़े तो वाहक...
Premchand

मंदिर और मस्जिद : प्रेम चंद की शिक्षाप्रद अनूठी कहानी

मंदिर और मस्जिद चौधरी इतरतअली ‘कड़े’ के बड़े जागीरदार थे। उनके बुजुर्गो ने शाही जमाने में अंग्रेजी...
old age

Old Age : Very Touching Poem

When an old man died in the geriatric ward of a nursing home in an Australian country town, it was believed that he had nothing left of any value. Later, when t…he nurses were going through his meager possessions, They found this poem....
moonlit night

मौन निमंत्रण – सुमित्रा नंदन पन्त की कविता

      स्तब्ध ज्योत्सना में जब संसार चकित रहता शिशु-सा नादान विश्व की पलकों पर सुकुमार विचरते...
tagore

The Kingdom Of Cards : Short Story By Tagore

A short story by Rabindranath Tagore The Kingdom Of Cards I Once upon a time there was a lonely island in a distant sea where lived the Kings and Queens, the Aces and the Knaves, in the Kingdom of Cards. The Tens and Nines, with the Twos and...
Jaishankar-Prasadedt

ममता : जय शंकर प्रसाद की कहानी

ममता जयशंकर प्रसाद रोहतास-दुर्ग के प्रकोष्ठ में बैठी हुई युवती ममता, शोण नदी के तीक्ष्ण गंभीर...