12:58 am - Wednesday November 22, 2017

Archive: Literature Subscribe to Literature

premchand

बड़े घर की बेटी _ प्रेमचन्द की उत्कृष्ट सामाजिक कहानी

बड़े घर की बेटी बेनीमाधव सिंह गौरीपुर गॉँव के जमींदार और नम्बरदार थे। उनके पितामह किसी समय बड़े...
sunrise

बीती बिभावारी जाग री – जय शंकर प्रसाद की कविता

बीती विभावरी जाग री ! अम्बर पनघट में डुबो रही- तारा-घट ऊषा नागरी । खग-कुल कुल-कुल-सा बोल रहा, किसलय...
poor but happy

I am drinking from my saucer because my cup has overflowed – Beautiful short poem

from e mail sent by sh V.S,Sehgal , published due to great human value of message   My dear friends,   Please, read this piece slowly. It is really beautiful. I’ve never made a fortune, and  it’s probably too late now. But...
mahadevi-verma

मैं नीर भरी दुःख की बदली – उमड़ी कल थी मिट आज चली : महादेवी वर्मा

मैं नीर भरी दुख की बदली! स्पंदन में चिर निस्पंद बसा, क्रंदन में आहत विश्व हँसा, नयनों में दीपक...
चंद्र शेखर आजाद

हरी ॐ पंवार की चन्द्र शेखर आजाद पर अत्यंत ओजस्वी कविता : अवश्य सुनें

amir khusro

Amir Khusro – अमीर खुसरो की पहेलियों की कवितायेँ

        Amir Khusro is regarded as one of the founders of Hindi khadi boli . Given below are some of the riddles written by him. They are interesting and tantalizing . रात समय वह मेरे आवे। भोर...
India Gate

कोल गेट , रेल गेट , इंडिया गेट : गेट यानी घोटाला -श्री शुभ्रांशु की कविता

देख कर न्यूज़ चैनलों की बकबक श्रीमती जी थीं स्तब्ध हकबक देखते-देखते एक न्यूज़ शो अचानक ही बोल...
premchand

Panch Parmeshwar Prem Chand : पञ्च परमेश्वर – प्रेमचंद की कहानी

जुम्मन शेख और अलगू चौधरी में गाढ़ी मित्रता थी। साझे में खेती होती थी। कुछ लेन-देन में भी साझा...
kabeer

Kabeer ke Dohe – कबीर के दोहे – भावार्थ समेत

बुरा जो देखन मैं चला, बुरा न मिलिया कोय, जो दिल खोजा आपना, मुझसे बुरा न कोय। अर्थ : जब मैं इस संसार...
hari om panwar

काला धन – हरी ॐ पंवार की ओजस्वी कविता

<iframe width=”480″ height=”360″ src=”http://www.youtube.com/embed/47BpQFmXohs?rel=0” frameborder=”0″ allowfullscreen></iframe>