3:14 pm - Wednesday April 26, 2017

Archive: Poems Subscribe to Poems

यह दिया बुझे नहीं

यह दिया बुझे नहीं – गोपाल सिंह नेपाली (Gopal Singh Nepali) यह दिया बुझे नहीं घोर अंधकार हो चल रही बयार हो आज...

जो जीवन की धूल चाट कर बड़ा हुआ है

जो जीवन की धूल चाट कर बड़ा हुआ है – केदारनाथ अग्रवाल (Kedarnath Agarwal) जो जीवन की धूल चाट कर बड़ा हुआ है तूफ़ानों...

मशाल

मशाल – महेन्द्र भटनागर (Mahendra Bhatnagar) बिखर गये हैं जिन्दगी के तार-तार रुद्ध-द्वार, बद्ध हैं चरण खुल...

हम होंगे कामयाब एक दिन

हम होंगे कामयाब, हम होंगे कामयाब एक दिन हो हो हो मन मे है विश्वास, पूरा है विश्वास हम होंगे कामयाब...

सारे जहाँ से अच्छा, हिन्दोस्तां हमारा

सारे जहाँ से अच्छा, हिन्दोस्तां हमारा हम बुलबुलें हैं इसकी, यह गुलिसतां हमारा गुरबत में हों अगर...

तुम मुझमें प्रिय! फिर परिचय क्या

तुम मुझमें प्रिय! फिर परिचय क्या – महादेवी वर्मा (Mahadevi Verma) तुम मुझमें प्रिय! फिर परिचय क्या तारक...

इतने ऊँचे उठो

इतने ऊँचे उठो – द्वारिका प्रसाद महेश्वरी (Dwarika Prasad Maheshwari) (Thanks to Yogendra Singh for sending this poem) इतने ऊँचे उठो कि जितना...

वीर तुम बढ़े चलो

बढ़े चलो -द्वारिकाप्रसाद माहेश्वरी वीर तुम बढ़े चलो धीर तुम बढ़े चलो साथ में ध्वजा रहे बाल दल...

बढ़े चलो, बढ़े चलो

बढ़े चलो, बढ़े चलो – सोहन लाल द्विवेदी (Sohan Lal Dwivedi) न हाथ एक शस्त्र हो, न हाथ एक अस्त्र हो, न अन्न वीर...

हिमाद्रि तुंग श्रृंग से प्रबुद्ध शुद्ध भारती

हिमाद्रि तुंग श्रृंग से प्रबुद्ध शुद्ध भारती – जयशंकर प्रसाद (JaiShankar Prasad) हिमाद्रि तुंग श्रृंग...